trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

Total Visitors : 5 2 5 5 2

बिहार सरकार का कोई नुमाइंदा नहीं पहुंचा। ...

सियाचिन में शहीद कैप्टन अवनीश को PK News का सलाम


 सियाचिन के अशोक प्वांइट पर 23 साल के कैप्टन अवनीश का हार्ट कॉलेप्स कर गया था। जिसके बाद चंडीगढ़ आर्मी अस्पताल में उनका इलाज किया गया।सियाचिन में शहीद हुए कैप्टन अवनीश सिंह का शव पटना पहुंचा एयरपोर्ट पर आर्मी के अधिकारियों और शहीद कैप्टन के परिजनों की उपस्थिति में गार्ड ऑफ ऑनर प्रदान किया गया। इस दौरान बिहार सरकार का कोई नुमाइंदा नहीं पहुंचा।शहीद अवनीश सिंह के रिश्तेदार कैप्टन साकेत ने सरकार के इस रवैये पर क्षोभ जताते हुए कहा कि फौज में हम अपने दम पर जाते है, लेकिन सरकार सम्मान भी नहीं दे सकती है। उन्होंने कहा कि उम्मीद थी कि बिहार सरकार के कोई मंत्री या अधिकारी जरूर पहुंचेंगे, लेकिन कोई नहीं आए। शहीद अवनीश के शव को दानापुर कैंट भेज दिया गया है। बताया जा रहा है कि वे सियाचिन के अशोक प्वाइंट पर कार्यरत थे। माइनस 50 डिग्री तक में काम करने वाले 23 साल के कैप्टन अवनीश को पहले सिरदर्द की शिकायत आई। इसके बाद उनका हार्ट कॉलेप्स कर गया था। इसके बाद उन्हें चंडीगढ़ आर्मी अस्पताल में उनका इलाज किया गया। पांच दिनों तक वेंटिलेटर पर रहने के बाद बुधवार को उन्होंने अंतिम सांस ली। आर्मी ऑफिसर के पुत्र शहीद अवनीश मूलरूप से मोतिहारी के रहने वाले थे। दानापुर के गोलारोड में उनका परिवार कई वर्षों से रह रहा है।

Related News

Leave a Reply