trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

Total Visitors : 5 1 3 7 4

पूरे परिवार को मौत के घाट उतार लगा ली फांसी ...

गुरुग्रामः डॉक्टर ने रातभर खेला खूनी खेल, परिवार को मौत के घाट उतार लगा ली फांसी
दिल्ली से सटे गुरुग्राम से डॉक्टर्स डे के दिन एक डॉक्टर की ऐसी करतूत सामने आ रही है जिसे सुनकर हर कोई दंग है। गुरुग्राम के एक डॉक्टर ने अपने हंसते-खेलते परिवार को एक झटके में मौत के घाट उतार दिया। अब इस मामले में ये सामने आ रहा है कि डॉक्टर ने आखिर क्यों अपने पूरे परिवार को मौत के घाट उतार कर फांसी लगा ली। वजह आपको अंदर तक झकझोर सकती है।
बताया जा रहा है कि गुरुग्राम के सेक्टर-49 स्थित उप्पल साउथ एंड एस ब्लॉक के फ्लैट नंबर 299 में डॉक्टर प्रकाश सिंह(55) अपने परिवार के साथ रहते थे। उनके परिवार में पत्नी सोनू सिंह(50), बेटी अदिति(22) और बेटा आदित्य(13) थे। उन्होंने बीती देर रात किसी धारदार हथियार से पहले परिवार के तीनों सदस्यों को मौत के घाट उतारा और फिर खुद फांसी पर झूल गए।

बताया जा रहा है कि यह घटना नौकरानी के सुबह घर आने के बाद ही लोगों को पता चल सकी। सोमवार सुबह करीब 7 बजे जब नौकरानी आई और घर का दरवाजा खटखटाया तो किसी ने नहीं खोला, इस घटना के बारे में सबसे पहले डॉक्टर परिवार की नौकरानी को पता चला। सोमवार सुबह करीब 7 बजे जब नौकरानी आई और घर का दरवाजा खटखटाया तो किसी ने नहीं खोला। नौकरानी ने बताया कि अंदर से केवल कुत्तों के भौंकने की आवाज आ रही थी। जब उसके इस बात की जानकारी आस पास के लोगों को दी तब पड़ोसी हरकत में आए।
पड़ोसियों की मदद से एक बच्चे को खिड़की के रास्ते अंदर उतारा गया जिसने शवों को देखकर चीख मार दी और दरवाजा खोलकर बाहर आया।
बच्चे के बाहर आने पर लोगों ने अंदर जाकर देखा तो वह सभी सन्न रह गए। घर के चारों सदस्यों शव उनके सामने थे। जहां तीन शव खून से लथपथ थे वहीं डॉक्टर का पंखे से झूलता शव लोगों ने देखा।इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी गई। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार डॉक्टर प्रकाश मूलरूप से वाराणसी के रहने वाले थे। घटनास्थल से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें लिखा है, "मैं अपने परिवार को संभाल नहीं पा रहा था। मैंने अपनी और अपनों की हत्या की है। इसके लिए मैं ही जिम्मेदार हूं।"
पुलिस ने मौके पर डॉग टीम व फोरेंसिक विशेषज्ञ को बुलवाया। जितनी यह घटना दंग करने वाली है उतनी ही इसके पीछे की वजह भी है।
बताया जा रहा है कि रेनबैक्सी में कार्यरत डॉक्टर श्रीप्रकाश की नौकरी 1 महीने से छूटी हुई थी, जिसके कारण वह तनाव में बताए जा रहा थे। हालांकि पड़ोसी इस वारदात के बाद सदमे में हैं।उनका कहना है कि परिवार बेहद अच्छा था और इस तरह की घटना होने के बाद वह यकीन नहीं कर पा रहे कि कैसे एक डॉक्टर अपने इतने प्यारे परिवार को मौत के घाट उतार सकता है।पुलिस का कहना है कि पूरी जांच के बाद ही सामने आ पाएगा कि इसकी वजह क्या है।

Related News

Leave a Reply