trending now

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

पहले छोड़ी गैस सब्सिडी,अब लगा रहे हैं गैस एजेंसियों के चक्कर

सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को लगाई फटकार कहा देश को बताएं राफ़ेल विमान की कीमत

'पन्ना सिंह पकौड़े वाला' की दो दुकानों पर छापामारी की गई है ...

लुधियाना

कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'पकौड़ा बेचने को रोजगार' बताने वाले बयान की आलोचना करते हों, लेकिन लुधियाना का 'पन्ना सिंह पकौड़े वाला' प्रधानमंत्री के दावे को सच साबित करते हुए एक कदम आगे निकल गया लगता है। 'पन्ना सिंह पकौड़े वाला' नाम से लोकप्रिय पकौड़ों की यह दुकान इस समय आयकर विभाग की छापामारी के चलते सुर्खियों में है। आयकर विभाग के अधिकारियों ने इस दुकान की वास्तविक आय का पता लगाने के लिए यहां छापा मारा है। आयकर विभाग के प्रिंसिपल कमिश्नर डीएस चौधरी के निर्देश पर 'पन्ना सिंह पकौड़े वाला' की दो दुकानों पर छापामारी की गई है।

आयकर विभाग को सूचना मिली थी कि दुकान के मालिकों ने कर से बचने के लिए अपनी वास्तविक आय छिपाई थी और इसी बुनियाद पर यह कार्रवाई की गई है। सूत्रों ने यह भी बताया कि दुकान के वित्तीय रिकॉर्ड की जांच करते हुए आयकर विभाग के अधिकारियों ने बिक्री की भी जांच की है ताकि दैनिक बिक्री के आधार पर अनुमानित वार्षिक आय की गणना की जा सके।

स्वर्गीय पन्ना सिंह ने साल 1952 में लुधियाना में पकौड़े की एक छोटी-सी दुकान शुरू की थी जो बाद में काफी प्रसिद्ध हुई। पन्ना सिंह पकौड़े वाले की दुकान न सिर्फ पंजाब बल्कि दूसरे राज्यों में भी अपने पकौड़ों और दही भल्लों के लिए प्रसिद्ध है।

Related News

Leave a Reply