Total Visitors : 9 1 9 7 2

सरकारी कर्मचारी दो सॉल्वर व एक अभ्यर्थी दे रहा था परीक्षा .. ...

सरकारी कर्मचारी सहित दो सॉल्वर व एक अभ्यर्थी दे रहा था एसएससी की परीक्षा 

कानपुर के कल्याणपुर में अंजिप टेक्नोलॉजी ऑनलाइन परीक्षा केंद्र पर एसएससी (स्टाफ  सेलेक्शन कमीशन) की एमटीएस (मल्टी टास्किंग सर्विसेज) की परीक्षा में दो सॉल्वर और एक अभ्यर्थी को कक्ष निरीक्षकों ने पकड़ लिया। इसमें एक सॉल्वर केंद्रीय कर्मचारी है।मामले में केंद्र संचालक की तहरीर पर कल्याणपुर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू की है। गिरोह का सरगना बिहार का रहने वाला है। कल्याणपुर स्थित परीक्षा केंद्र पर शुक्रवार को दो पालियों में एमटीएस की परीक्षा होनी थी।

पहली पाली की परीक्षा सुबह सात बजे, जबकि दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर बारह बजे से हुई। इंस्पेक्टर अश्विनी कुमार पांडेय ने बताया कि दूसरी पाली में चिड़ियातार पटना (बिहार) निवासी अतुल प्रकाश, पटना के वाजिदपुर निवासी सगे भाइयों दीपू व बिट्टू की जगह पर परीक्षा देने आया था।साथ ही, केंद्र के बाहर उसका एक साथी दरभंगा बिहार निवासी पंकज कुमार भी मौजूद था। आशंका होने पर जब कक्ष निरीक्षकों ने अतुल प्रकाश की जांच की तो पता चला कि उसका आधार कार्ड फर्जी है। आगे की तहकीकात में पूरा फर्जीवाड़ा सामने आया।इंस्पेक्टर ने बताया कि अतुल प्रकाश प्रिंसिपल एकाउंटेंट जनरल (एई), रेसकोर्स रोड गुजरात दफ्तर में एमटीएस पद पर तैनात है। उसके बारे में और जानकारी खंगाली जा रही है। पुलिस ने अतुल, अभ्यर्थी बिट्टू और पंकज को गिरफ्तार कर लिया। शनिवार को पुलिस ने तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया।

एसटीएफ ने एसएससी की परीक्षा देने आए सॉल्वर को केंद्र से दबोचा, 10 लाख में तय हुआ था सौदा

एसटीएफ कानपुर यूनिट ने गुरुवार को स्टॉफ  सलेक्शन कमीशन (एसएससी) की मल्टी टास्किंग सर्विसेज (एमटीएस) की परीक्षा से एक सॉल्वर को दबोचा। सॉल्वर प्रयागराज के एक छात्र की जगह कल्याणपुर के अंजिप टेक्नोलॉजी एलएलपी परीक्षा केंद्र पर परीक्षा देने आया था।देर रात तक एसटीएफ की टीम कल्याणपुर थाने में आरोपी से पूछताछ करती रही। एसटीएफ इंस्पेक्टर घनश्याम यादव ने बताया कि परीक्षा दोपहर साढ़े बारह बजे से दो बजे तक होनी थी। सटीक सूचना मिलने पर परीक्षा से ठीक पहले एसटीएफ की टीम केंद्र के बाहर पहुंच गई।यहां से ताजुद्दीनपुर, थरवई, प्रयागराज निवासी मान सिंह यादव को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता चला कि आरोपी हबीबपुर, मलावनखुर्द, प्रयागराज निवासी मुकेश कुमार प्रजापति की जगह पर परीक्षा देने आया था। सॉल्वर गैंग का सरगना गोपाल प्रसाद है।उसने मुकेश से परीक्षा पास करवाने के लिए दस लाख रुपये में सौदा किया था। गिरफ्तार आरोपी ने बताया कि गोपाल ने उसको सिर्फ 50 हजार रुपये का सौदा कर परीक्षा में बिठवाया था। अभी तक उसे 24 हजार रुपये एडवांस मिले थे। बाकी रकम परीक्षा के बाद मिलनी थी।


15 परीक्षा में बैठ चुका है ये सॉल्वर

आरोपी ने बताया कि वह इसके पहले करीब 15 परीक्षाओं में बैठ चुका है। कभी पकड़ा नहीं गया है। गोपाल के गिरोह में आठ से दस लोग शामिल हैं जो यही पूरा खेल करीब पांच साल से कर रहे हैं। 

प्रश्न पत्र भी आउट करवाता है गिरोह

आरोपी ने बताया कि कई परीक्षाओं के प्रश्न पत्र भी गोपाल ने आउट करवाए थे। एसटीएफ को आशंका है कि अगर पेपर आउट हुआ तो इसमें बड़े अधिकारी भी शामिल हो सकते हैं। जल्द ही एक टीम जांच के लिए इलाहाबाद जाएगी।

ऐसे किया खेल, जाल में फंसा

आरोपी के पास एक फर्जी आधार कार्ड, मिक्सिंग फोटो, फर्जी प्रवेश पत्र बरामद हुआ। एसटीएफ के मुताबिक अभ्यर्थी की फोटो लेकर सॉल्वर अपने आधार कार्ड की फोटो से मिक्सिंग करते हैं। उसी आधार पर वह प्रवेश पा लेते हैं। यहां भी उसने यही किया था लेकिन बायोमैट्रिक उपस्थिति दर्ज होने के दौरान वह पकड़ में आ गया।

Related News

Leave a Reply