Total Visitors : 1 1 5 9 3 7

24 घंटे में घातक बीमारी से दो बहनों की मौत मचा कोहराम ...

 मां और बहन की हालत भी गंभीर

कन्नौज के तिर्वा में घातक बीमारी की चपेट में आईं दो बहनों ने 24 घंटे के अंदर दम तोड़ दिया। घर में मां और छोटी बहन की हालत गंभीर है। इनका मेडिकल कालेज में सीएमओ की निगरानी में इलाज शुरू किया गया है। चिकित्सा अधिकारियों ने गलाघोटू बीमारी फैलने की आशंका जाहिर की है।पीड़ितों के साथ ही गांव के अन्य लोगों का परीक्षण शुरू किया गया है। तिर्वा ब्लाक के बछज्जापुर गांव निवासी आमिर पुत्र रियासत की तीन बेटियां हैं। आर्थिक हालत ठीक न होने के कारण वह मुंबई में काम करता है। घर में 40 वर्षीय पत्नी रिजवाना, आठ वर्षीय बेटी अमरीन, सात वर्षीय समरीन और पांच वर्षीय रुकैया बानो हैं।

चिकित्सकों ने बछज्जापुर गांव पहुंच कर शुरू किया इलाज, गलाघोटू (डिफ्थीरिया) से मौत की आशंका

करीब दो दिन पहले अमरीन के गले में सूजन आ गई। उसे मेडिकल कालेज तिर्वा में भर्ती कराया गया। फायदा न मिलने पर परिजन कानपुर और सैफई ले गए। आराम न होने पर परिजन रविवार को घर ले आए। यहां उसने दम तोड़ दिया। थोड़ी देर बाद बहन समरीन का भी गला सूजने लगा। परिजन उसे मेडिकल कालेज ले आए।

डॉक्टरों ने उसे कानपुर रेफर कर दिया। सोमवार को इलाज के दौरान उसकी भी मौत हो गई। मंगलवार को बहन रुकैया बानो और मां रिजवाना की भी हालत गंभीर हो गई। 24 घंटे में दो बहनों की मौत से गांव में दहशत फैल गई। ग्रामीणों ने मां और बेटी को मेडिकल कालेज में भर्ती कराया।सीएमओ डॉ. कृष्ण स्वरूप के निर्देश पर ब्लाक चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अवधेश कुमार टीम के साथ मौके पर पहुंचे। मृतकों के परिजनों से पूछताछ की। वहीं मेडिकल कालेज में सीएमओ की निगरानी में मां-बेटी का इलाज शुरू किया गया। सीएमओ ने बताया कि परिजनों ने पोस्टमार्टम कराने से इनकार कर दिया है। इससे मां और बेटी का सैंपल लेकर जांच की जा रही है। गलाघोटू बीमारी फैलने की आशंका है।

रैपिड रिस्पांस टीम करेगी जांच

दो बहनों की मौत, मां और छोटी बहन के बीमार होने की घटना को स्वास्थ्य महकमे ने गंभीरता से लिया है। सीएमओ ने बताया कि बुधवार को जिला स्तरीय रैपिड रिस्पांस टीम के प्रभारी डॉ. बृजेश शुक्ला के नेतृत्व में टीम जांच करेगी। मेडिकल कालेज में मरीजों के सैंपल के साथ ही गांव के लोगों की जांच कर बीमारी का पता लगाया जाएगा।

 

Related News

Leave a Reply