trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

थानों को ही सुरक्षा नहीं दे पा रही है उत्तर प्रदेश पुलिस ...

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में पुलिस थानों के शस्त्रागार से असलहों के गायब होने का सिलसिला जारी है। अभी बीते शुक्रवार को जहां सिकंदरा थाने के शस्त्रागार से तीन पिस्टलों और एके-47 राइफल के 76 कारतूस गायब हो गए थे, वहीं इस बार हरीपर्वत थाने का ऐसा ही एक मामला सामने आया है। दरअसल, इस बार हरीपर्वत थाने से 9 एमएम की ग्लौक पिस्टल गायब हुई है।

जानकारी के अनुसार, थाने से असलहे के गायब होने की जानकारी तब मिली जब देर रात एएसपी ने थाना के शास्त्रागार में मिलान कराया। इस मिलान में 9 एमएम की ग्लौक पिस्टल गायब मिली जिसे अगस्त 2017 में शस्त्रागार में जमा करवाया गया था। बताया जा रहा है कि बीते 15 महीने से इस असलहे का मुआयना ही नहीं हुआ था। बताया जा रहा है कि 9 एमएम की ग्लौक पिस्टल अगस्त 2017 में तत्कालीन एएसआई अरुण कुमार ने जमा कराई थी। शस्त्रागार के रजिस्टर में तब तक का लेखाजोखा भी अंकित है लेकिन इसके बाद से पिस्टल का कोई मुआयना नहीं हुआ। फिलहाल, पिस्टल को मिसिंग में माना जा रहा है। कोई मुकदमा दर्ज न करते हुए पिस्टल की बरामदगी का प्रयास किया जा रहा है। बीते शुक्रवार को सिकंदरा थाने के डबल लॉकर शस्त्रागार से तीन सरकारी रिवॉल्वर और 76 कारतूस चोरी कर लिए गए थे।  चोरों की तलाश में क्राइम ब्रांच और थाने की कई टीम जांच में लग गई थी। लेकिन अभी तक चोरों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल सकी। थानों में लगातार हो रही इन घटनाओं को देखकर कहा जा सकता है कि जो पुलिस समाज में चोरी की घटनाओं पर नकेल कसने के लिए चयनित की गई है जब वह अपने थानों को ही सुरक्षा नहीं दे पा रही है तो अन्य जगह तो राम ही भरोसे हैं। अगर कहें कि पुलिस थानों ने थानों में ही चोर पाल रखे हैं, तो गलत नहीं होगा।

Related News

Leave a Reply