trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

Total Visitors : 190

तिरंगा यात्रा को लेकर हुए बवाल में एक निर्दोष की जान गयी थी. ...

26 जनवरी 2018, उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में इस दिन को शायद ही कोई अभी तक भूल पाया होगा आखिर याद रहे भी क्यों न, इसी दिन तिरंगा यात्रा को लेकर हुए बवाल में एक निर्दोष की जान गयी और न जानें कितने घायल हुए। इसी बात को ध्यान में रखते हुए जिले को अभी से छावनी में तब्दील कर दिया गया है। कासगंज जिलाधिकारी आरपी सिंह और पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार शुक्ल ने भारी संख्या में पुलिस बल के साथ पूरे शहर में फ्लैगमार्च किया। सुरक्षा के मद्देनजर शहर को 2 जोन और 8 सेक्टरों में बांटा गया है। इसके साथ ही शहर के 50 संवेदनशील क्षेत्रों को भी चिन्हित किया गया है। किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

पिछले साल तिरंगा यात्रा में हुए दंगे के चलते जिला प्रशासन ने बिना परमिशन किसी भी तरह की रैली या जुलूस पर भी रोक लगा दी है। 26 जनवरी पर एक कंपनी आरएएफ, पीएसी, सहित जोन का भारी पुलिस बल जनपद में मुस्तैद रहेगा। जनपद पुलिस ने 250 से ज्यादा लोगों को मुचकले पर पाबंद कर दिया है और कुछ लोगों को गुंडा एक्ट में भी पाबन्द कर कार्रवाई शुरू कर दी है। कासगंज कोतवाली के मथुरा-बरेली हाइवे पर बिलराम गेट के पास जब कुछ युवक तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे। तभी एक समुदाय के लोगों ने इसका विरोध किया और मामला इतना बढ़ गया कि पथराव के बाद आगजनी, फायरिंग भी हो गयी। जिसकी चपेट में आने से चन्दन नाम के युवक को गोली लग गई। चन्दन की मौके पर ही मौत होने के बाद बवाल और बढ़ गया।

Related News

Leave a Reply