trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

Total Visitors : 5 1 3 4 7

फिर एक बिटिया बनी हवस का शिकार ...

लखीमपुर-खीरी

जनपद की कोतवाली फूलबेहड़ क्षेत्र के गाँव की निवासी 14 वर्षीय बालिका के साथ गाँव के एक वहशी दरिन्दे ने मुँह काला किया। पीड़िता की मा ने थाना कोतवाली फूलबेहड़ मे प्रार्थना पत्र देकर रिपोर्ट दर्ज कराने की माँग की है,सूत्रों दृारा प्राप्त जानकारी अनुसार पीड़िता की माँ आवश्यक कार्य से लखीमपुर आई थी घटना दिनांक 30–9–2018 की रात लगभग 11 बजे की है जब पीड़िता अपने घर का दरवाजा बन्द करके अपने घर में अकेली लेटी थी कि अचानक गाँव के ही निवासी रज्जन मिश्रा पुत्र सुरेन्द्र मिश्रा दीवार फादकर जीने के रास्ते से घर में घुस आया,और जबरन यौन शोषण करने लगा पीड़िता के मुँह को दबाये रखने से वह चिल्ला तक नही सकी,छूटने पर उसने अपनी माँ को फोन कर आप बीती बताई,साथ घटी घटना की जानकारी दी पीड़िता की माँ ने इसकी जानकारी रात में ही पुलिस अधीक्षक खीरी को दी,अगले दिन थाना प्रभारी फूलबेहड़ दिवाकर को प्रार्थना पत्र देकर कार्यवाही की माँग की,जिसके बावजूद सत्ता के संरक्षण मे कोतवाल विधा दिवाकर दृारा मुकदमा पंजीकृत नही किया गया,पीड़िता न्याय के लिए दर दर भटक रही है, फिलहाल पुलिस ने पीड़िता को मेडिकल परीक्षण के लिए जिला महिला अस्पताल भेज दिया है।क्या यही है केंद्र एवं राज्य शाषित भाजपा का बेटी बचाओ स्लोगन का सत्य कि प्रतिदिन देश प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से दिल दहलाने वाली कोई न कोई शर्मनाक घटना हमारे संज्ञान में आती रहती है,आखिर कब तक सत्ता के शिखर पर बैठे गणमान्य यू ही धृतराष्ट्र के भाती सत्ता के लोभ के कारण ऐसे अपराधियों एवं जघन अपराध के खिलाफ़ कोई ठोस कानून बनाने से हिचकते नज़र आएंगे, समय आ गया है कि अब हम सब को मिलकर स्वयं बिना किसी भेदभाव के सब कुछ से ऊपर उठकर सोचना होगा कि आज किसी की बेटी है तो ईश्वर न करे कल कोई अपना भी हो सकता है,ऐसे भेड़ियों की कोई कमी नही,बचाओ की पहल हमे स्वयं करनी होगी हमको अपने घर परिवार की स्त्रियो को सामाजिक एवं मानसिकरूप से सशक्त करने के साथ यह विश्वास भी दिलाना होगा कि चाहे परिस्थिति कैसी भी हो उसका डटकर मुकाबला करें क्योकि उनका परिवार सदैव उनके साथ है क्योकि नारी बचें आप से,वरना लूट जाये अपने ही बाप से

Related News

Leave a Reply