trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

यह सब कुछ हो रहा है बनारस के सेंट्रल जेल में........ . ...

जेल का नाम सुनते ही लोगों के जेहन में ऊंची-ऊंची दीवारें और उनमें कैद कैदियों की तस्वीर सामने आती है।अब ये तस्वीरें बदलने लगी हैं। सलाखों के पीछे अब संगीत के सुर भी सुनाई देने लगे हैं। हारमोनियम और तबले की थाप पर घंटों रियाज होता है। भजन, चैती, ठुमरी के साथ मॉर्डन म्यूजिक की कलाओं से कैदी वाकिफ होते हैं। यह सब कुछ हो रहा है बनारस के सेंट्रल जेल में। बनारस के सेंट्रेल जेल में इन दिनों कैदियों को संगीत की शिक्षा दी जा रही है।कैदियों को संगीत की शिक्षा देने के लिए बनारस घराने के कलाकार आशीष मिश्रा सेंट्रल जेल में आते हैं।

सेंट्रेल जेल में इन दिनों कैदियों को संगीत की शिक्षा दी जा रही है। पांच महीने पहले संगीत क्लास शुरु हुई। उस वक्त तीन कैदी ही संगीत में रुचि लेते थे। लेकिन वक्त बढ़ने के साथ अब धीरे-धीरे म्यूजिक क्लास में 12 कैदी शामिल हो रहे हैं। कैदियों के बीच संगीत की बढ़ती ललक देख अब जेल प्रशासन भी इनकी मदद के लिए आगे आया है। जेल में अब रॉक बैंड और ऑरकेस्ट्रा ग्रुप बनाने की तैयारी है। डिप्टी जेलर धीरेंद्र सिंह के मुताबिक जेल में ऑरकेस्ट्रा ग्रुप बनाने की योजना है।और यह सब मुमकिन हो पाया जेल प्रशासन और कलाकार आशीष मिश्रा जी के अटूट विश्वास और अथक प्रयासों की वजह से

कैदियों को संगीत की शिक्षा देने के लिए बनारस घराने के कलाकार आशीष मिश्रा सेंट्रल जेल में आते हैं। हफ्ते में दो दिन कैदियों की म्यूजिक क्लास चलती है। आशीष मिश्रा सजायाफ्ता कैदियों को शास्त्रीय संगीत के अलावा लोकगीतों की बारीकियां सिखाते हैं। संगीत की सुर लहरियों से से जले के नीरस माहौल में ताजगी आ जाती है। संगीत की शिक्षा लेने के लिए कैदियों ने प्रयाग संगीत समिति में पंजीकरण करा रखा है। समिति की परीक्षा में कैदी जेल से ही शामिल होते हैं। जेल के चिकित्सक अभिषेक कुमार के मुताबिक मानसिक तनाव को दूर करने के लिए संगीत एक बेहतर माध्यम है। हमारी कोशिश है कि संगीत के जरिए कैदियों के तनाव को कम किया जाए। क्योंकि ऊंची-ऊंची दीवारें कैदखाना नहीं बल्कि सुधारगृह है। हाल ही में बॉलीवुड सिंगर अभिजीत सेंट्रल जेल के अंदर परफॉर्म कर चुके हैं। अभिजीत ने अपने गानों से कैदियों को जमकर झुमाया था। उस कार्यक्रम में जेल में बंद कैदी जावेद ने हारमोनियम, रोजश ने ढोलक और अशोक ने तबले पर अभिजीत का साथ दिया था। उस वक्त कैदियों के हुनर को देख अभिजीत ने भी खूब तारीफ की थी।

Related News

Leave a Reply