trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

Total Visitors : 6 4 2 9 0

बोर्ड परीक्षाएं 18 फरवरी से,हाईस्कूल परीक्षा 12 इंटर 15 दिन ...

यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 18 फरवरी से,

 हाईस्कूल की परीक्षा 12 दिन और इंटर की 15 दिन चलेगी

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 18 फरवरी से होंगी।गर्मी की छुट्टियों के बाद स्कूल उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने शैक्षणिक कैलेंडर जारी कर दिया।हाईस्कूल की परीक्षाएं 12 और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 15 कार्य दिवसों में संपन्न होंगी।20 से 25 अप्रैल के बीच दोनों परीक्षाफल भी घोषित कर दिए जाएंगे।शिक्षकों को किस महीने में कितना पाठ्यक्रम पूरा कराना है,यह भी तय कर दिया गया है।उप मुख्यमंत्री ने मीडियाकर्मियों को बताया कि कक्षा-9 से 12 तक के मुख्य विषयों के पाठ्यक्रम का मासिक शैक्षिक पंचांग तैयार कराकर माध्यमिक शिक्षा परिषद की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है।सभी माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाचार्य पाठ्यक्रम की इस मासिक डायरी के अनुसार पढ़ाई की व्यवस्था सुनिश्चित कराएंगे।जिला विद्यालय निरीक्षक समय-समय पर देखेंगे कि पंचांग का पालन हो रहा है या नहीं।

डॉ. शर्मा ने बताया कि वर्ष 2020 की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा में कुल 55 लाख विद्यार्थी बैठेंगे।शैक्षिक सत्र 2019-20 की वार्षिक परीक्षाओं की समय सारिणी परिषद की वेबसाइट पर अपलोड है।परीक्षाएं एक साथ 18 फरवरी को शुरू होंगी। हाईस्कूल की परीक्षाएं 3 मार्च और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 6 मार्च को खत्म होंगी।डॉ. शर्मा ने कहा कि सार्वजनिक अवकाश की तारीखें घोषित न होने की स्थिति में परीक्षा कार्यक्रम में आंशिक बदलाव हो सकता है।

यहां बता दें कि पिछले साल यूपी बोर्ड की परीक्षाएं 7 फरवरी को शुरू हुई थीं।हाईस्कूल की परीक्षाएं 14 कार्य दिवसों में और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं 16 कार्य दिवसों में समाप्त हुई थीं।ठंड को देखते हुए इस बार परीक्षाएं थोड़ा देरी से शुरू होंगी।

जीआईसी में भी मिलेंगी पाठ्यपुस्तकें

डॉ. शर्मा ने बताया कि कक्षा-9 से 12 तक की कक्षाओं के पाठ्यक्रम का मासिक विभाजन करके कौन सा चैप्टर किस माह में पढ़ाया जाएगा, इसे तय कर दिया गया है।शैक्षिक सत्र में दो सौ से अधिक दिन पढ़ाई होगी। एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम के अनुसार एक निश्चित मूल्य पर किताबें बाजार में उपलब्ध होंगी। इन किताबों का मूल्य पिछले 10-15 वर्षों के न्यूनतम स्तर पर होगा। ये पुस्तकें बाजार में उपलब्ध न होने की शिकायत मिलने पर इन्हें नजदीकी राजकीय विद्यालयों में उपलब्ध कराया जाएगा।

बी कॉपी पर भी रहेगा क्रमांक

डॉ. शर्मा ने बताया कि हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार वर्ष 2020 में पास होने वाले विद्यार्थियों का प्रमाणपत्र सह अंक पत्र हिंदी व अंग्रेजी में प्रिंट कराया जाएगा।उत्तर पुस्तिकाओं का दुरुपयोग रोकने के लिए पहली बार ए कॉपी के साथ-साथ बी कॉपी पर भी क्रमांक अंकित किया जा रहा है।सभी तरह की उत्तर पुस्तिकाओं में लाइनिंग का कलर अलग-अलग कराकर प्रिंट कराया जा रहा है।

जीआईसी में भी मिलेंगी पाठ्य पुस्तकें

डॉ. शर्मा ने बताया कि कक्षा 9 से 12 तक की कक्षाओं के पाठ्यक्रम का मासिक विभाजन करके कौन सा चैप्टर किस माह में पढ़ाया जाएगा,इसे तय कर दिया गया है।शैक्षिक सत्र में दो सौ से अधिक दिन पढ़ाई होगी। एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम के अनुसार,एक निश्चित मूल्य पर किताबें बाजार में उपलब्ध होंगी। इनका मूल्य पिछले 10-15 वर्षों के न्यूनतम स्तर पर होगा।ये पुस्तकें बाजार में उपलब्ध न होने की शिकायत मिलने पर इन्हें नजदीकी राजकीय विद्यालयों में उपलब्ध कराया जाएगा।

Related News

Leave a Reply