trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

ईवीएम में गड़बड़ी और स्ट्रांग रूम में सुरक्षा में खामी और अब ...

मध्यप्रदेश ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतों के बाद अब पुलिस मुख्यालय में लावारिस मिले पोस्टल बैलेट 

जिस दिन पोस्टल बैलेट डाले जा रहे थे उस दिन भी पुलिस मुख्यालय पर हंगामा हुआ था। संख्या के हिसाब से व्यवस्था नहीं होने की वजह से मतदान के दौरान पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों ने जमकर हंगामा किया था।ईवीएम में गड़बड़ी और स्ट्रांग रूम में सुरक्षा में खामी पर हल्ले के बीच अब भोपाल में नया खुलासा हुआ है। यहां पुलिस हेडक्वॉटर में सैकड़ों खाली डाक मतपत्र लावारिस पड़े मिले। पुलिस हेडक्वॉटर का ये ऑफिस भोपाल में खटलापुरा मंदिर के पास है यहां ऑफिस की पुरानी कैंटीन में ये मत पत्र पड़े थे।

मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को मतदान था उससे पहले 18 नवंबर से पोस्टल बैलेट डालने का सिलसिला शुरू हुआ था। 4 हज़ार से ज़्यादा पुलिस कर्मचारी और अफसरों ने डाक मत पत्र डाले थे। पोस्टल बैलेट 26 नवंबर की शाम तक जमा कराने थे। 28 नबंवर को मतदान ख़त्म होने के  बाद सभी तरह के मतपत्रों को पुरानी जेल में कड़ी सुरक्षा के बीच रखवा दिया गया था.मगर करीब हफ़्तेभर बाद अब सैकड़ों डाक मतपत्र पुलिस हेड क्वार्टर की पुरानी कैंटीन में ये पोस्टल बैलेट पड़े मिले। इससे  निर्वाचन की प्रकिया पर सवाल उठ गया है ये अब जांच का विषय है कि इतनी बड़ी मात्रा में ये डाक मतपत्र यहां कैसे आए। जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने लाल परेड ग्राउंड के पुलिस जिम में मतदान की व्यवस्था की थी। जिम में भोपाल में आने वाली सात विधानसभाओं के लिए पोलिंग बूथ बनाया था इस पोलिंग बूथ के लिए सिर्फ दो गेट थे, जहां से पुलिस कर्मचारियों के आने-जाने की व्यवस्था थी।

Related News

Leave a Reply