trending now

लखनऊ हिंदी दैनिक‘आज’ के वरिष्ठ संवादाता कल्याण सिंह ने खुद को गोली मारी

कमल नाथ होंगे मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री

अब जेल में ही बीतेगी बाकी उम्र, हत्या के एक और मामले में रामपाल को उम्र कैद की सजा

नहीं रहे गंगा के असली पुत्र जीडी अग्रवाल गंगा को बचाने के लिए 111 दिनों से कर रहे थे अनशन

भीड़ तन्त्र में कोई भी सुरक्षित नहीं हरियाणा DIG की हुई पिटाई

भर्ष्टाचार के चलते कानपुर के चौराहों की स्थिति भी भर्ष्ट . ...

       कानपुर के घंटाघर पर चलता है आरजकताओं का राज       

विजय नगर की तरह घंटाघर मंजुश्री के सामने टैम्पो स्टैंड की अराजकता से आम जनता परेशान हैं।अराजकता इतनी की आये दिन यात्रियों से नोकझोंक होती हैं कहने क़ा तत्पर ये हैं के यदि मंजूश्री के सामने स्टैंड पास हैं तो यहां किराया सूची बोर्ड क्यों नही लगा क्यों आये दिन किराये को लेकर टैम्पो वाले और यात्रियों में घमासान होता हैं। 

कुछ समय पहले कानपुर प्रशासन ने ई रिक्शों पर कार्यवाही करते हुए कई रिक्शों को शील किया था इस कार्यवाही से जनता को कुछ राहत तो जरूर मिल गई पर ई रिक्शों में आयी कमी ने टैम्पो वालों के भाव बढ़ा दिये। सूत्रों से मिली जानकारी से टेम्पो वालों ने बगैर किसी आदेश के टैम्पो क़ा किराया बढ़ा दिया और आपसी सांठगांठ से किराया सूची तैयार कर यात्रियों से किराये के नाम पर ज़्यादा पैसे वसूले जा रहे हैं। अब यात्रियों की ये मजबूरी हैं के ई रिक्शा की कमी के चलते उन्हें टैम्पो क़ा सहारा मजबूरन लेना ही पड़ रहा हैं ।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार शहर में कई टेम्पो बगैर कागज के चल रहे हैं पर ये चेक करने के लियें किसी प्रशासनिक अधिकारी के पास टाइम नही हैं या यूं भी कह सकते के जानकर भी अनजान बनने वाली प्रणाली क़ा कुशल संचालन किया जा रहा हैं। गत दिनों ई रिक्शों पर शिकंजा कसा गया था तब बात प्रकाश में आयी की कानपुर शहर में कई रिक्शे भी बगैर कागज के दौड़ रहे थे ।

Related News

Leave a Reply